.

New Article

Tuesday, April 12, 2016

राजा का जन्मदिन


एक राजा का जन्मदिन था.
सुबह जब वह घूमने निकला, तो उसने तय किया कि वह रास्ते में मिलने वाले पहले व्यक्ति को पूरी तरह खुश व संतुष्ट करेगा.
उसे एक भिखारी मिला.
भिखारी ने राजा से भीख मांगी, तो राजा ने भिखारी की तरफ एक तांबे का सिक्का उछाल दिया.
सिक्का भिखारी के हाथ से छूट कर नाली में जा गिरा.
भिखारी नाली में हाथ डाल तांबे का सिक्का ढूंढ़ने लगा.
राजा ने उसे बुला कर दूसरा तांबे का सिक्का दिया.
भिखारी ने खुश होकर वह सिक्का अपनी जेब में रख लिया और वापस जाकर नाली में गिरा सिक्का ढूंढ़ने लगा.
राजा को लगा कि भिखारी बहुत गरीब है, उसने भिखारी को फिर बुलाया और चांदी का एक सिक्का दिया.
भिखारी राजा की जय जयकार करता चांदी का सिक्का रख लिया और फिर नाली में तांबे वाला सिक्का ढूंढ़ने लगा.
राजा ने फिर बुलाया और अब भिखारी को एक सोने का सिक्का दिया.
भिखारी खुशी से झूम उठा और वापस भाग कर अपना हाथ नाली की तरफ बढ़ाने लगा.
राजा को बहुत खराब लगा.
उसने भिखारी को बुलाया और कहा कि मैं तुम्हें अपना आधा राज-पाट देदूँ तो तुम खुश व संतुष्ट हो जाओगे
...
भिखारी बोला---मैं खुश और संतुष्ट तभी हो सकूँगा जब नाली में गिरा तांबे का सिक्का भी मुझे मिल जायेगा.
हमारा हाल भी उस भिखारी जैसा ही है.
हमें सर्वशक्तिमान परमेश्वर पिता ने संतोष और आनंद रूपी अनमोल खजाना दिया है और हम उसे भूलकर संसार रूपी नाली में तांबे के सिक्के निकालने के लिए जीवन गंवाते जा रहे है...
इस अनमोल मानव जीवन का हम अगर सही इस्तेमाल करें तो हमारा जीवन धन्य हो जायेगा।
-


www.hellopanditji.com,www.admissionfunda.com

No comments:

Total Pageviews

Video

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Pages

ShareThis