.

New Article

Saturday, February 2, 2019

जानिए फरवरी 2019 में कोनसा ग्रह करेगा राशि परिवर्तन-

(वर्ष 2019 के गोचर का विवरण)..

वर्ष 2019 की दूसरा महीना फरवरी शुरू हो चुका है। वैदिक ज्योतिष के नजरिए से यह महीना काफी महत्वपूर्ण रहने वाला होगा। वर्ष 2019 के फरवरी माह में 4 बड़े ग्रह अपनी-अपनी राशि बदलकर दूसरी राशि में गोचर करेंगें। ज्योतिष के अनुसार जैसे-जैसे किसी व्यक्ति की कुंडली में ग्रहों की चाल में परिवर्तन आता है उस व्यक्ति को सकारात्मक और नकारात्मक परिणाम मिलने शुरू हो जाते हैं। ज्योतिषशाचार्य पण्डित दयानन्द शास्त्री के अनुसार ग्रह दशा पक्ष में होने से व्यक्ति के सारे काम आसानी से होने लगते हैं वहीं कुंडली में विपरीत ग्रह होने व्यक्ति को तमाम तरह परेशानियां आने लगती है। ग्रहों के राशि परिवर्तन का व्यापक प्रभाव समस्त राशियों पर पड़ता है। फरवरी महीने में मंगल, सूर्य, बुध और शुक्र जैसे प्रमुख ग्रह एक राशि को छोड़कर दूसरी राशि में प्रवेश करेंगे। इन ग्रहों की चाल में बदलाव होने से कुछ राशियों के सितारे चमक सकते हैं तो वहीं कुछ के बुरे दिन शुरू हो सकते हैं। 
-----------------------------------
👉🏻👉🏻इन राशियों के लिए यह गोचर शुभ रहेगा---
मेष, वृष, कर्क और तुला। इस 4 राशियों को तरक्की और धन लाभ होने के संकेत हैं।

👉🏻👉🏻इन राशियों के लिए यह गोचर सामान्य रहेगा---
सिंह, धनु, मकर और कुंभ

👉🏻👉🏻सावधान रहें इस राशियों के लोग---
मिथुन, कन्या, वृश्चिक और मीन
----------------------------------------
👉🏻👉🏻👉🏻इस वर्ष  वर्ष गुरू वृश्चिक राशि में गोचर करते हुए 29 मार्च 2019 को धनु राशि 22 अप्रैल को वृश्चिक राशि 04 नवम्बर 2019 को धनु राशि में संचरण करेंगे।

👉🏻👉🏻👉🏻👉🏻शनिः
शनि वर्ष 2019 में  पूरे वर्ष धनु राशि में गोचर करेंगे।

👉🏻👉🏻👉🏻राहुः
राहु इस वर्ष 06 मार्च 2019 तक कर्क इसके पश्चात् मिथुन राशि में संचरण करेगा।

👉🏻👉🏻👉🏻केतुः
केतु वर्ष 2019 में 06 मार्च तक मकर इसके पश्चात् धनु राशिगत संचरण करेगा।
------------------------------------------
👉🏻👉🏻👉🏻मंगल का मेष राशि में गोचर---

ज्योतिष में मंगल ग्रह का विशेष महत्व होता है। पण्डित दयानन्द शास्त्री ने बताया कि  मंगल ग्रह मेष और वृश्चिक राशि के स्वामी है। मंगल ऊर्जा और शक्ति का प्रतीक हैं। मंगल मकर राशि में उच्च के भाव रहते हैं और कर्क राशि में इन्हें नीच के भाव में। इस वर्ष 05 फरवरी को मेष राशि, 22 मार्च को वृष राशि, 07 मई को मिथुन राशि, 22 जून को कर्क राशि में, 08 अगस्त को सिंह राशि में, 25 सितम्बर को कन्या राशि में, 10 नवम्बर को तुला राशि में, 25 दिसम्बर को वृश्चिक राशि में संचरण करेंगे।

मंगल 5 फरवरी की रात्रि को मेष राशि में प्रवेश करेंगे इससे पहले कुछ समय से मीन राशि में विचरण कर रहे थे। मंगल 5 फरवरी 2019 (मंगलवार) को राशि परिवर्तन करेंगे। वह अपनी मेष राशि में आ रहे हैं, उसी दिन मंगल का धनिष्ठा नक्षत्र भी है. क्लेश और झगड़े खत्म होंगे. क़र्ज़ कम होने लगेंगे. पढ़ाई, नौकरी, व्यापार और शादी में आयी मुसीबत कम हो जाएगी. मंगल ग्रह मेष राशि में स्वराशि के होंगे. लोगों को गुस्सा भी कम आएगा, अपराध कम होंगे । ज्योतिषशाचार्य पण्डित दयानन्द के मुताबिक मंगल ग्रह 5 फरवरी की रात 11.48 बजे के बाद राशि परिवर्तन कर मीन राशि से अपनी ही मूल त्रिकोण राशि मेष में प्रवेश करेंगे। यहां वह 22 मार्च 2019 को दोपहर 3.29 तक रहेंगे।
जानिए क्या होगा आपकी राशि पर प्रभाव--

मेष- अपनी ही राशि में मंगल का गोचर शुभ प्रभाव लेकर आएगा। किस्मत साथ देगी और सेहत में सुधार होगा। अति उत्साह में काम करने से बचें। स्वभाव उग्र रहेगा, गुस्से पर नियंत्रण रखें। मां के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। जीवन साथी का सहयोग मिलेगा।

वृषभ- आपकी राशि से 12वें भाव में मंगल के जाने से खर्चों में बढ़ोतरी होगी, यात्रा का योग बन सकता है। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कोर्ट-कचेहरी के मामलों में विजय मिल सकती है। इस दौरान उधार देने से बचें। स्वास्थ्य का ध्यान रखें।

मिथुन- राशि से 11वें स्थान पर गोचर होने से लाभ होगा। आर्थिक लाभ हो सकता है। भूमि-भवन से संबंधित लाभ हो सकते हैं। सुख-सुविधा पर खर्च बढ़ेगा। बच्चों की तरफ से कोई अच्छी खबर मिल सकती है। नए दोस्त बन सकते हैं और पुराने मित्रों से मुलाकात हो सकती है। स्वास्थ्य के प्रति सचेत रहें। उधार देने से बचें।

कर्क- आपकी राशि से 10वें भाव में गोचर होने से करियर में लाभ होगा, व्यापार में तरक्की होगी। अति उत्साह में कोई काम करने से बचें। घर परिवार में प्रेम बढ़ेगा। बच्चों की सफलता मिल सकती है।

सिंह- भाग्य भाव में गोचर करने से खर्चों में बढ़ोतरी होगी, लेकिन खर्च शुभ कार्यों में होगा। पिता को लाभ और पिता से सहायता मिल सकती है। छोटे-भाई बहनों को लाभ मिलेगा। छोटी दूरी की या धार्मिक यात्राएं हो सकती हैं। परिश्रम का पूरा लाभ मिलेगा।

कन्या- आठवें स्थान पर मंगल का गोचर होने से स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें। खून संबंधी परेशानी, चोट-चपेट लगने की आशंका है। अचानक धन लाभ हो सकता है। कठिन परिश्रम करने पर भी पूरा लाभ नहीं मिल सकेगा। भाई-बहनों को लाभ मिलेगा।

तुला- सातवें स्थान पर मंगल का गोचर होने से जीवन साथी के साथ संबंध तनावपूर्ण हो सकते हैं, लिहाजा क्रोध पर नियंत्रण रखें। कार्यस्थल में वरिष्ठ अधिकारियों का साथ और लाभ मिलेगा मिलेगा। पार्टनरशिप में काम करने वालों को लाभ हो सकता है।

वृश्चिक- इस राशि का स्वामी गोचर में छठवें स्थान पर है। वाहन चलाने में सावधानी रखें, दुर्घटना हो सकती है। छात्रों के लिए अच्छा समय है, लेकिन कठिन परिश्रम करना होगा। शत्रु और विरोधियों से विजय मिलेगी। धार्मिक कार्यों में रुझान बढ़ेगा, यात्राएं हो सकती हैं। खर्चे बढ़ सकते हैं। क्रोध में काबू रखें और अति उत्साह से बचें।

धनु- आपकी राशि से पांचवे स्थान पर होने से परिवार और रिश्तों में संयम रखें। बच्चे जिद्दी और अड़ियल हो सकते हैं। व्यय बढ़ सकता है, हालांकि आय के साधन भी बनेंगे। यात्राओं के योग बन रहे हैं।

मकर- चतुर्थ स्थान पर मंगल का गोचर होने से संपत्ति और वाहन संबंधी मामलों में सफलता मिल सकती है। मां और जीवन साथी के साथ तालमेल बनाकर चलें। कार्यस्थल में वरिष्ठ कर्मचारियों से लाभ मिल सकता है।

कुंभ- आपकी राशि से तीसरे स्थान पर मंगल का गोचर होने से छोटे भाई-बहनों को लाभ मिलेगा। धार्मिक कार्यों में रुझान रहेगा और छोटी यात्राओं के योग बन रहे हैं। उधार देने से बचें। विरोधियों पर विजय हासिल होगी।

मीन- आपकी राशि से दूसरे स्थान पर मंगल का गोचर होने से भूमि-भवन संबंधी कोई काम कर सकते हैं। बच्चों का स्वभाव अड़ियल हो सकता है। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें और वाहन चलाने में सावधानी रखें।

नोट- मंगल के गोचर के साथ ही जन्मपत्री में अन्य ग्रहों की स्थिति के अनुसार फल बदल सकते हैं। कोई परेशानी होने पर अनुभवी एवम योग्य ज्योतिषी से संपर्क करें।
FOR ASTROLOGY www.shubhkundli.com, FOR JOB www.uniqueinstitutes.org

No comments:

Total Pageviews

Video

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Pages

ShareThis